वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने जीता सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन का चुनाव, जयराम रमेश ने कहा- "बड़े बदलाव का इशारा"

वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने गुरुवार 16 मई को सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष पद का चुनाव जीत लिया है. कपिल सिब्बल को वोटिंग में 1066 वोट मिले जबकि उनके प्रतिद्वंदी वरिष्ठ वकील प्रदीप राय को 689 वोट मिले.

New Update
कपिल सिब्बल ने जीता सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन का चुनाव

कपिल सिब्बल

वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने गुरुवार 16 मई को सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष पद का चुनाव जीत लिया है. कपिल सिब्बल को वोटिंग में 1066 वोट मिले जबकि उनके प्रतिद्वंदी वरिष्ठ वकील प्रदीप राय को 689 वोट मिले. वहीं वर्तमान अध्यक्ष वरिष्ठ वकील आदिश सी अग्रवाल को 296 वोट मिले.

Advertisment

कपिल सिब्बल ने 23 साल बाद बार एसोसिएशन का चुनाव लड़ा है. इससे पहेल उन्होंने साल 2001 में चुनाव लड़ा था और जीत भी हासिल की थी. सिब्बल चौथी बार सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष बनने वाले हैं. इससे पहले वह 1995-1996, 1997-98 में अध्यक्ष रहे थे.

कपिल सिब्बल की जीत पर ममता बनर्जी, अरविंद केजरीवाल, कांग्रेस महासचिव संचार जयराम रमेश ने बधाई दी है. जयराम रमेश ने इसे बड़े बदलाव का इशारा बताते हुए लिखा “यह उदारवादी धर्मनिरपेक्ष, लोकतांत्रिक और प्रगतिशील ताकतों के लिए एक बड़ी जीत है. निवर्तमान प्रधानमंत्री के शब्दों में, यह राष्ट्रीय स्तर पर बहुत जल्द होने वाले परिवर्तनों का एक ट्रेलर भी है.”

वहीं ममता बनर्जी ने लिखा “कपिल सिब्बल जी को बधाई. सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन का अध्यक्ष पद भारी अंतर से जीतने के लिए! हमारे कानूनी जगत की इस महत्वपूर्ण संस्था में हम सभी के समर्थन से आपकी जीत हमें गौरवान्वित करती है. हम सभी के लिए लोकतंत्र के लिए अपनी लड़ाई लड़ते रहें.”

Advertisment

8 मई को किया था नामांकन

कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन (एससीबीए) के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने के लिए आठ मई को नामांकन किया था.

वहीं चुनाव से पहले सिब्बल ने बार में वकीलों को होने वाली दिक्कतों पर बात करते हुए कहा "बार में पीने के पानी की सुविधा नहीं थी, मैंने वह व्यवस्था की थी. मैंने यहां टिकट बुक करने के लिए एक रेलवे केंद्र की व्यवस्था की थी. यहां कैंटीन, आरगे गर्ग लाइब्रेरी मेरी तरफ से स्थापित की गई थी. जब भी मुद्दे उठते हैं, हम वही करते हैं, जो हमें करना होता है."

Kapil Sibal Supreme Court Bar Association jairam ramesh